How to Relieve Stress Quickly

Ayurveda
आजकल हर कोई किसी न किसी चीज को लेकर परेशान है। ज्यादा सोचने, टेंशन लेने, तनाव, स्ट्रेस के कारण दिमाग पर बुरा असर पड़ता है, जिससे आप डिप्रैशन या माइग्रेन के शिकार भी हो सकते हैं। इतना ही स्ट्रेस या तनाव का असग आपके मूड़ पर भी पड़ता है और आप चिड़चिड़े और गुस्सैल हो जाते हैं।

इस वीडियो में आप जानेंगे कि किस प्रकार हम घर पर कुछ एसेंशियल ऑयल की मदद से अपने मूड को अपने तनाव को अपनी मानसिक पीड़ा को बड़ी ही सरलता से दूर कर सकते हैं और तनावमुक्त प्रसन्नता भरा जीवन जी सकते है।
 अधिक जानकारी के लिए –

क्या हैं तनाव:

  •     पढ़ते समय ध्यान भटकना/ पढ़ाई के समय कुछ और काम याद आ जाना/
  •     पढ़ाई से मन चुराना या बिलकुल भी पढ़ने की इच्छा ना होना
  •     लम्बे समय तक पढ़ने से सिरदर्द हो जाता हैं
  •     पढ़ने के बाद भी कुछ याद ना रहना
  •     exams की टेंशन हर समय परेशान करती हैं
  •     बिना किसी बात के गुस्सा आना या चिडचिडापन
  •     रात को नींद ना आना या ज़रूरत से ज़्यादा नींद आना
  •     भूख न लगना या हर समय भूख लगना (बिना वजह खाना खाने के बाद भी)
  •     शरीर में उर्ज़ा की कमी, चिंता से उदासी व किसी से बात ना करने की इच्छा

  कैसे करें तनाव खत्म ?

तो जानिए कैसे आप पढ़ाई के तनाव को कम कर सकतें हैं –

1. Outdoor या physical activities ज़रूर करें –
स्टूडेंट्स को पढ़ाई के बीच-बीच में ब्रेक लेने की आवश्यकता हैं इसके लिए वे physical activities जैसेकि games खेलें या व्यायाम करें जिससें  उनके शरीर में ऊर्जा और स्फूर्ति बनी रहेगी| सारा समय अपने study room में बिताने से स्टूडेंट्स को stress बढ़ेगा और सरदर्द होगा और साथ ही आँखों की रोशनी भी कम हो सकती हैं इसलिए ज़रूरी है कि वे घर से बाहर जायें और थोड़ी धूप ले और शारीरिक व्यायाम करें|

2. परिवार या दोस्तों के साथ समय बितायें –
अकेले में समय बिताने से तनाव और भी बढ़ सकता हैं| अगर आप हर समय बस पढ़ाई करेंगे या किसी से बात नहीं करेंगे तो आपको नकारात्मक ख़याल आएंगे, मन अशांत रहेगा और आप अन्य उलझनों में फ़सें रहेंगे| इसलिए स्टूडेंट्स के लिए ज़रूरी हैं कि वे अपने परिवार जन या दोस्तों के साथ समय बिताएं और उनसे अपनें मन के विचारों को बाँटें|

3. अपनें विचारों को diary में लिखें – स्टूडेंट्स हर बात भी अपने माता-पिता या दोस्तों से नहीं बाँट सकतें और उन्हें समझ नहीं आता कि वे ऐसे में क्या करें| ऐसी परिस्तिथि में आप एक पेन और diary लीजिए और जो भी मन में भावनायें या विचार है उन्हें लिख डालें| ऐसा करने से आपका मन हल्का होगा और आपका तनाव भी दूर होगा|

4. extracurricular activities में पार्ट लें –
सिर्फ outdoor activities से ही पढ़ाई से ब्रेक नहीं मिलता आप अपने मन का कोई भी काम कर सकतें है जिससे आपको ख़ुशी मिलें| आप या तो books read कर सकतें है या फिर movies, video games या गाने भी सुन/गा सकतें हैं| लेकिन इस बात का ध्यान रखें की कहीं आप अपना सारा समय video games या movies में ही न बर्बाद कर दें क्यूंकि पढ़ाई करना भी तो ज़रूरी हैं|

5. मैडिटेशन या योग करें – अपने मन को शांत करने के लिए व नकारात्मक खयालों को दिमाग से निकालने के लिए आप मैडिटेशन और योग का सहारा ले सकतें है| इससे आप को सरदर्द की समस्या या नींद न आना या नींद ज़रूरत से ज़्यादा आना जैसी परेशानियो से छुटकारा मिलेगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

कैंसर के बाद HIV का इलाज मिला
Ayurveda

कैंसर के बाद HIV का इलाज मिला: रिसर्च में दावा- वैक्सीन की सिर्फ एक डोज से बीमारी खत्म होगी; जानें कैसे करती है काम

कैंसर के बाद अब वैज्ञानिकों ने HIV/AIDS जैसी जानलेवा बीमारी का भी इलाज ढूंढ लिया है। इजराइल की तेल अवीव यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स एक ऐसी

Consuming 2 spoons of ghee on an empty stomach everyday will bring terrible changes in the body
Ayurveda

रोज़ खाली पेट 2 चम्मच घी खाने से शरीर में होंगे भयंकर बदलाव

सुबह उठकर खाली पेट सिर्फ 1 चम्मच देसी घी से आपके शरीर को मिलेंगे ये 6 गजब के फायदे, शरीर रहेगा चुस्त-दुरुस्तहेल्दी रहने के लिए