यूरिक एसिड का सम्पूर्ण समाधान

Ayurveda
Uric Acid Diet, Symptoms, Cause, Treatment, Test: यूरिक एसिड के लोगों को कई चीजों का ध्यान रखने की जरूरत होती है, वरना उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। जानिए नेचुरल तरीकों से कैसे इसे कंट्रोल किया जा सकता है।
 

यूरिक एसिड हमारे शरीर में प्यूरिन वाले खाने के पाचन से बना प्राकृतिक वेस्ट प्रोडक्ट होता है। इसके शरीर में बढ़ जाने से कई समस्याएं जन्म ले लेती हैं। आपके शरीर में प्यूरिन बनते और टूटते हैं और कुछ ऐसे फूड भी होते हैं, जिनमें प्यूरिन की अधिक मात्रा होती है। 

कुछ तरह के मीट, बीन्स, बियर आदि में प्यूरीन की अधिक मात्रा होती है। आमतौर पर आपका शरीर यूरिक एसिड को यूरिन और किडनी के जरिये फिल्टर कर देता है, लेकिन अगर आप अपने खाने में प्यूरिन की अधिक मात्रा लेते हैं या आपकी बॉडी इसको फिल्टर नहीं कर पाती तो यह आपके खून में बढ़ने लग जाता है। यूरिक एसिड के बढ़ने को Hyperuricemia भी कहा जाता है। इससे Gout नाम की बीमारी लग सकती है जिससे जोड़ों में दर्द उठता है।

यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने के कारण ( Causes of High Uric Acid ) :

  1. शर्करा ( Glucose ) : अधिक मात्रा में शर्करा का सेवन रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा को बढाने का कार्य करती है. 
  2. सीरम यूरिक एसिड ( Serum Uric Acid ) : अगर गुर्दों से सीरम यूरिक एसिड निकलना बंद हो जाता है या कम हो जाता है तो इससे भी यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है. 
  3. वजन कम करने का प्रयास ( Try to Lose Weight ) : कुछ लोग अपने मोटापे से इस कदर परेशान हो जाते है कि वो शीघ्रता से अपने वजन को कम करने लगते है, अधिक उपवास रखने लगते है, तरह तरह की दवाएं खाने लगते है इत्यादि. किन्तु ये सब उनकी समस्याओं को और भी अधिक बढाता है और उनके शरीर में आश्चर्यजनक तरीके से यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने लगता है.

 

 यूरिक एसिड का सम्पूर्ण समाधान

  1. विटामिन सी से भरपूर फलों का सेवन यूरिक एसिड कम करने में बेहद मददगार साबित होगा। इसके साथ ही चेरी, ब्लू बेरी जैसे फलों जूस, शरीर में बढ़े हुए यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मददगार है।  
  2. हाई फाइबर फूड का सेवन भी बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम करने में सहायक है। यह यूरिक एसिड को सोखने में मददगार है।इसके अलावा  अंगूर के बीजों का प्रयोग कई बीमारियों की दवाओं में किया जाता है।
  3. हरा धनिया एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है और एक तरह से डाइयूरेटिक की तरह काम करता है। इसका व इसके जूस का भरपूर सेवन करना गठिया और अन्य तकलीफों से निजात दिलाएगा।
  4. एपल साइडर विनेगर यानि सेब का सिरका, पानी के साथ मिलाकर लेना भी फासदेमंद है।डॉक्टर्स भी यूरिक एसिड का स्तर कम करने के लिए कुछ दवाएं देते हैं, जो आपकी सेहत और शरीर की प्रकृति के अनुसार दी जाती हैं। 
  5. डॉक्टर की मदद लेना एक बेहतर उपाय साबित होगा।
  6.  फैटी चीजें और अधिक मीठे खान-पान एवं पेय पदार्थों का सेवन यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में बाधा पैदा कर सकता है। यूरिक एसिड बढ़ने पर शराब और इन चीजों का सेवन न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Consuming 2 spoons of ghee on an empty stomach everyday will bring terrible changes in the body
Ayurveda

रोज़ खाली पेट 2 चम्मच घी खाने से शरीर में होंगे भयंकर बदलाव

सुबह उठकर खाली पेट सिर्फ 1 चम्मच देसी घी से आपके शरीर को मिलेंगे ये 6 गजब के फायदे, शरीर रहेगा चुस्त-दुरुस्तहेल्दी रहने के लिए