बच्चों को बीमारी से कैसे बचा सकते हैं?

Ayurveda

हम बच्चों को बीमारी से कैसे बचा सकते हैं? 

How can we protect children from disease?

मौसम की स्थिति में यह बदलाव कई संक्रमणों और बीमारियों को भी लाता है, मुख्य रूप से बुजुर्गों और बच्चों को प्रभावित करता है क्योंकि उनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। मानसून में होने वाली बीमारियों से आपको और आपके परिवार को स्वस्थ रहने में मदद करने के लिए, हमने घर पर उनसे निपटने के तरीकों के बारे में बताया है। आइए जानते हैं, मानसून में होने वाली बीमारियों से बच्‍चों को कैसे बचाएं?

इस मौसम में बीमारियों की आशंका काफी बढ़ जाती है। प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण खासकर बच्चे इसकी चपेट में सबसे ज्यादा आते हैं। लेकिन आप अपने बच्चे को इन संक्रमणों की चपेट में आने से वक्त रहते बचा सकते हैं। जानिए कैसे?

बच्चों को बीमारी से कैसे बचा सकते हैं?

  1. अपने बच्चों को घर का बना खाना खाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि बाहर पकाए गए खाने की क्वालिटी बेहतर नहीं हो सकती या असमान परिस्थितियों में पकाया जा सकता है।
  2.  पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन, खाने से पहले और शौच के बाद हाथ धोना बीमारी से बचा सकता है। इसके अलावा रोग से बचाव के लिए टीकाकरण भी जरूरी है।
  3. बच्चे पोखरों में खेलते हैं, ऐसे में वे लेप्टोस्पायरोसिस के संपर्क में आ सकते हैं, जो जानवरों के मूत्र से दूषित पानी या मिट्टी के संपर्क में आने से होता है। 
  4. यदि आपके बच्चे को किसी भी तरह के खुले कट या घाव हैं, तो उन्हें इस बीमारी के होने की संभावना बढृ जाती है।
  5. लेप्टोस्पायरोसिस के मामलों की घटनाओं को स्वच्छता मानकों में सुधार और मूत्र दूषित जल स्रोतों से बचाव कर कम किया जा सकता है।
  6. माता-पिता के लिए यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि हर समय बच्चे को मच्छर से बचाने वाली क्रीम लगाई जाए। आप उन्हें ऐसे कपड़े भी पहनाएं जो उनके पूरे शरीर को ढककर रखे। घर में या आसपास खुले टैंकों में जमा पानी रखने से बचें क्योंकि यह मच्छरों को प्रजनन करने से रोकेगा।
  7. माता-पिता को यह सलाह दी जाती है कि वे फिल्टर किए हुए पानी को भी उबाल लें। यह आपके बच्चों को जलजनित बीमारियों से बचाएगा। 
  8. भोजन को ढक कर रखें, ताजे और पके भोजन खिलाएं। सड़क के किनारे मिलने वाली चीजों को खिलाने से बचें और गैस्ट्रिक से जुड़ी समस्याओं से बचने के लिए हमेशा सही आहार का चुनाव अपने का सेवन करें। डॉक्टर की सलाह से दें!
  9. बच्चों में कोल्ड और फ्लू सबसे आम वायरल संक्रमण है, क्योंकि यह छींकने, खांसने, या संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलते हैं, खासकर स्कूलों में ऐसा देखने को मिलता है। 
  10. सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा अन्य बच्चों के साथ तौलिए या रूमाल जैसी वस्तुओं को साझा करने से बचे। 
  11. कोशिश करें कि बच्चों को सेनेटाइजर या मेडिकेटेड साबुन उपलब्ध कराएं और यह भी सुनिश्चित करें कि वे उनका उपयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

कैंसर के बाद HIV का इलाज मिला
Ayurveda

कैंसर के बाद HIV का इलाज मिला: रिसर्च में दावा- वैक्सीन की सिर्फ एक डोज से बीमारी खत्म होगी; जानें कैसे करती है काम

कैंसर के बाद अब वैज्ञानिकों ने HIV/AIDS जैसी जानलेवा बीमारी का भी इलाज ढूंढ लिया है। इजराइल की तेल अवीव यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स एक ऐसी

Consuming 2 spoons of ghee on an empty stomach everyday will bring terrible changes in the body
Ayurveda

रोज़ खाली पेट 2 चम्मच घी खाने से शरीर में होंगे भयंकर बदलाव

सुबह उठकर खाली पेट सिर्फ 1 चम्मच देसी घी से आपके शरीर को मिलेंगे ये 6 गजब के फायदे, शरीर रहेगा चुस्त-दुरुस्तहेल्दी रहने के लिए