निल शुक्राणु का सर्वश्रेष्ठ इलाज की नई खोज | How to increase sperm count and volume

Ayurveda
निल शुक्राणु का सर्वश्रेष्ठ इलाज की नई खोज विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार प्रति मिलीलीटर वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या 1.5 से 3.9 करोड़ हो तो उसे सामान्य माना जाता है। कई स्टडी का तो यहां तक कहना है कि अगर स्पर्म काउंट में गिरावट नहीं थमी तो मानव एक दुर्लभ प्रजाति की सूची में शामिल हो जाएगा।

कई स्टडी में यह बात सामने आई है कि उत्तरी अमरीका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड के पुरुषों में पिछले 40 सालों से कम वक़्त के दौरान स्पर्म काउंट आधा हो गया है। इस समस्या को निदान पाने के लिए नई तकनीक की खोज की जा रहीं हैं जो काफी कारगर सिद्ध हुई है।

 

निल शुक्राणु का सर्वश्रेष्ठ इलाज की नई खोज

सही देखभाल और सही चिकिसकीय परामर्श एवं उपचार से इसको ठीक किया जा सकता हैं
यहा पे आपको कुछ निम्न उपचार बातये गये हैं | इनका सेवन करे आप जल्द ही स्वस्थ्य हो जायेगे !

१ . गिलोय सत्त्व १० ग्राम + कबाब (शीतल)चीनी १० ग्राम + सफ़ेद मूसली १० ग्राम + कतीरा गोंद १० ग्राम + शिलाजीत १० ग्राम + प्रवाल पिष्टी १० ग्राम + बंग भस्म ५ ग्राम + भीमसेनी कपूर आधा ग्राम ; इन सबको कस कर घोंट कर गुलाब जल डाल कर खरल करें फिर एक ग्राम केसर डाल कर दुबारा मजबूत हाथों से घुटाई करके २५० मिग्रा. की गोलियां बना लीजिये। सुबह-शाम एक – एक गोली गिलोय (गुरिच या गुळ्वेल या गुडूची) के रस में बराबर शहद मिला कर लें यदि गिलोय का रस न मिल पाये तो तुलसी के पत्तों के रस व शहद से लीजिये।

२ . महामन्मथ रसायन एक गोली + स्वर्ण बंग एक रत्ती + ताप्यादि लौह एक रत्ती + चंद्रप्रभा वटी एक गोली + पुष्पधन्वा रस एक गोली इन सबकी एक खुराक बनाएं व एक चम्मच सुबह च्यवनप्राश के साथ ले

३ . स्वर्ण बंग एक रत्ती + अभ्रक भस्म एक रत्ती + लक्ष्मी विलास रस एक गोली + पुष्पधन्वा रस एक गोली + नवायस मण्डूर एक रत्ती की एक खुराक बनाएं व दोपहर भोजन के बाद द्राक्षासव व अश्वगंधारिष्ट के दो चम्मच के साथ लीजिये।

४ . बसंतकुसुमाकर रस एक गोली + स्वर्ण बंग एक रत्ती + पूर्णचंद्र रस एक गोली + स्वर्णमाक्षिक भस्म एक रत्ती + मुक्ताशुक्ति भस्म एक रत्ती + मूसली पाक एक चम्मच को मिला कर हलके गुनगुने मीठे दूध के साथ शाम को लीजिये।

५ . एक चम्मच कोंचा पाक + एक चम्मच च्यवनप्राश को चाट कर ऊपर से करीब दो चम्मच ईसबगोल की भूसी दूध के साथ लीजिये।

इस उपचार को कम से कम तीन माह तक जारी रखिये। भोजन में मांसाहार व तेज मिर्च मसाले का सेवन एकदम बंद कर दें यदि तम्बाकू अथवा शराब का सेवन करते हों तो परहेज करिये।

नोट : ये दवाए कोई भी व्यक्ति बिना डॉक्टर के परामर्श के न ले ! क्योकि हर केस में मरीज़ के लक्षण अलग अलग होते हैं जिसका साइड इफ़ेक्ट भी हो सकता हैं – अगर आपको चिकिसकीय परामर्श चाहिए तो संपर्क करे !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Consuming 2 spoons of ghee on an empty stomach everyday will bring terrible changes in the body
Ayurveda

रोज़ खाली पेट 2 चम्मच घी खाने से शरीर में होंगे भयंकर बदलाव

सुबह उठकर खाली पेट सिर्फ 1 चम्मच देसी घी से आपके शरीर को मिलेंगे ये 6 गजब के फायदे, शरीर रहेगा चुस्त-दुरुस्तहेल्दी रहने के लिए