दिमाग और स्मरण शक्ति बढ़ाने का आसान योग ध्यान | How to increase brain power and memory

yoga
दिमाग और स्मरण शक्ति बढ़ाने का आसान योग ध्यान

अध्यात्म में योग का बेहद महत्व है। यौगिक क्रियाओं के द्वारा ना केवल मानसिक शांति और शारीरिक स्वास्थ्य पाना संभव है, बल्कि यह अन्य कई प्रकार से भी आपकी रोजाना के जीवन को आसान करने में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभा सकता है। लेकिन इसके लिए बहुत जरूरी है कि आप अपनी परेशानियों के अनुसार सही योगासन का चयन करें

 How to increase brain power and memory

बहुत बार हम कई चीज़े भूल जाते है| जैसे कुछ चीज़ कहा रख देते है याद नहीं आता, या फिर कुछ खास दिन जैसे किसी का बर्थडे आदि| यह कभी कभी हो तो कोई बात नहीं है| लेकिन यदि यह समस्या बार बार होती है तो बहुत परेशानी आ जाती है|
 कई बार तो ऐसा होता है की जिन लोगों के साथ ये समस्या होती है सिर्फ वे खुद ही नहीं बल्कि उनसे जुड़े अन्य लोग भी समस्या में पड़ जाते है।
 दरहसल इस भूलने की बिमारी के पीछे की मुख्य वजह एकाग्रता में कमी होना है। हमारे दिमाग को कुछ भी याद रखने के लिए पोषक तत्वों की जरुरत होती है|
जब हमारे शरीर मे इन तत्वों की कमी हो जाती है तो रिकाल करने की क्षमता में कमी होने लगती है| अच्छे खान पान के साथ यदि आप नियमित योग करे तो अपनी याददाश्त शक्ति बढ़ा सकते है|

आपको एक एक करके इस बारे में बताते हैं कि है वो कौन से योग हैं, जो आपकी याददाश्त तेज कर सकते हैं।

पश्चिमोत्तानासन
इस आसन को करते वक्त पीठ में खिचाव उत्पन्न होता है,  इस वजह से इसे पश्चिमोत्तानासन कहा जाता है। ये आसन यादाश्त शक्ति तेज करने में भी सहायक है। चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं और अपने दोनों पैरों को आपस में मिलाकर रखें। आपको अपने पूरे शरीर को बिल्कुल सीधा तान कर रखना है तथा दोनों हाथ जमीन पर टिके हुए होना चाहिए। इस आसन को बैठे कर भी किया जा सकता है।

इस आसन की खास बातें
खास बात ये है कि पश्चिमोत्तानासन को आप केवल 3 बार ही करें। साथ ही एक बार करने के बाद कम से कम 10 सैकेंड का विश्राम करे।  आधे घंटे के अभ्यास से आप अपनी स्मरण शक्ति को बढ़ा सकते है। पश्चिमोत्तानासन का अभ्यास करते वक्त सांस सामान्य रूप से लेना और छोड़ना है। ये आसन आपके शरीर की कई इंद्रियों को जगाता है।

हठयोग
हठयोग एक ऐसा योग है, जिसकी मदद से ना केवल आपको शारीरिक लाभ मिलता है, बल्कि आपके मानसिक विकास के लिए ये योग सहायक है| अगर हठयोग का अभ्यास रोजाना किया जाए तो व्यक्ति अपना खोया हुआ स्वास्थ्य दोबारा भी पा सकता है। तनाव से मुक्ति पाने के लिए हठयोग से बेहतर कोई आसन नहीं कहा जा सकता।

फैसले लेने की क्षमता बढ़ती है
हठ योग से निर्णय लेने की क्षमता और सीखने की क्षमता अधिक तेज होती है| इसके साथ ही हठयोग के जरिए आप एरोबिक्स को और भी ज्यादा प्रभावशाली बना सकते हैं। अगर आपकी याददाश्त कमजोर है, तो आप इसे हठयोग के जरिए और भी बेहतरीन बना सकते हैं। इसलिए कहा जाता है कि हठयोग से बेहतर कोई योग अभी तक नहीं है।

ध्यान
अगर आपकी याददाश्त कमजोर है तो इसे आप ध्यान के जरिए बढ़ा सकते है। कहा जाता है कि ध्यान योग का सातवां अंग है। सिर्फ 10 मिनट के ध्यान के अभ्यास से ही आपकी स्मरण शक्ति बढ़ जाती है । सुखासन में बैठ जाएं और मात्र 10 मिनट के लिए अपनी आँखे मूंद कर सांसों पर ध्यान दें। ऐसा आप रोजाना करेंगे तो एक महीने में ही फर्क नजर आने लगेगा।
सर्वांगासन
सर्वांगासन करते वक्त आपका सिर नीचे की ओर होता है। इसके साथ ही पैर ऊपर की तरफ होते हैं। इसे करते वक्त आपके मस्तिष्क को बहुत सारी ऑक्सीजन मिलती है। इसलिए इसके अभ्यास से आपके दिमाग को फायदा मिलता है। इस आसन को करते वक्त आपके पूरे शरीर का व्यायाम होता है, इसलिए इसे सर्वांगासन नाम दिया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

इन 10 योगासन से तनाव को दूर करें और रोजाना अपने शरीर और दिमाग को तरोताजा करें
yoga

इन 10 योगासन से तनाव को दूर करें और रोजाना अपने शरीर और दिमाग को तरोताजा करें

योग के अंग संचालन को सूक्ष्म व्यायाम भी कहा जाता है। आजकल इसे योगा एक्सरसाइज कहते हैं। अंग संचालन या योगासन तीन तरीके से करते