टॉन्सिल्स ठीक करने के कारगर घरेलू उपाय

Ayurveda
गले में बराबर दर्द होता रहता है। टॉन्सिल के कारण गले में जलन और सूजन हो जाती है। आमतौर पर जब किसी को टॉन्सिल रोग होता है तो रोगी एलोपैथिक दवाओं (Tonsil ki dawa) का उपयोग करता है,

लेकिन कई बार एलोपैथिक दवा पूरी तरह असरदार साबित नहीं होती। ऐसे में आप टॉन्सिल का घरेलू उपचार कर सकते हैं।

 

टॉन्सिल होने के कारण (Tonsils Causes in Hindi)

टॉन्सिल्स होने के ये कारण हो सकते हैंः-

  1. वायरल इन्फेक्शन (कॉमन कोल्ड) के कारण।
  2. टॉन्सिलाइटिस में होने वाला सबसे सामान्य रोग Streptococcus Pyogenes है।
  3. इसके अलावा स्टेफिललोकोकस ऑरियस (Staphylococcus Aureus), मायकोप्लाज्मा निमोनिया (Mycoplasma Pneumonia) भी एक कारण है।
  4. इन्फ्लुएंजा के कारण टॉन्सिल्स होता है, जिसे फ्लू कहा जाता है।
  5. कोरोनावायरस के कारण, इसके दो उपप्रकारों में से एक SARS का कारण भी है।
  6. बहुत ज्यादा ठण्डा खाने या पीने (आइसक्रीम या कोल्ड ड्रिंक) से।
  7. रोगप्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से।

नींबू से टॉन्सिल का घरेलू उपचार (Lemon: Home Remedies for Tonsil Treatment in Hindi)

  1. एक चम्मच शहद में नींबू के रस की 2-3 बूंद मिलाकर बच्चे को दिन में तीन बार सेवन कराएं।
  2. गरम पानी में नींबू का रस और ताजा अदरक पीस कर मिलाएं। इस पानी से हर 30 मिनट में गरारा करें।
  3. गरम पानी में नींबू का रस, चुटकी भर नमक, तथा काली मिर्च मिला कर गरारा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Consuming 2 spoons of ghee on an empty stomach everyday will bring terrible changes in the body
Ayurveda

रोज़ खाली पेट 2 चम्मच घी खाने से शरीर में होंगे भयंकर बदलाव

सुबह उठकर खाली पेट सिर्फ 1 चम्मच देसी घी से आपके शरीर को मिलेंगे ये 6 गजब के फायदे, शरीर रहेगा चुस्त-दुरुस्तहेल्दी रहने के लिए