Single-use Plastics का जीवन पर बुरा प्रभाव | Single use plastics and its harmful effects

Environment
Single-use Plastics का जीवन पर बुरा प्रभाव

पॉलिथीन और प्लास्टिक गाँव से लेकर शहर तक लोगों की सेहत बिगाड़ रहे हैं। शहर का ड्रेनेज सिस्टम अक्सर पॉलिथीन से भरा मिलता है।

 इसके चलते नालियाँ और नाले जाम हो जाते हैं। इसका प्रयोग तेजी से बढ़ा है। प्लास्टिक के गिलासों में चाय या फिर गर्म दूध का सेवन करने से उसका केमिकल लोगों के पेट में चला जाता है। इससे डायरिया के साथ ही अन्य गम्भीर बीमारियाँ होती हैं।

वर्तमान में प्लास्टिक प्रदूषण एक गंभीर वैश्विक समस्या बन गया है। दुनिया भर में अरबों प्लास्टिक के बैग हर साल फेंके जाते हैं। ये प्लास्टिक बैग नालियों के प्रवाह को रोकते हैं और आगे बढ़ते हुए वे नदियों और महासागरों तक पहुंचते हैं। चूंकि प्लास्टिक स्वाभाविक रूप से विघटित नहीं होता है इसलिए यह प्रतिकूल तरीके से नदियों, महासागरों आदि के जीवन और पर्यावरण को प्रभावित करता है।

 प्लास्टिक प्रदूषण के कारण लाखों पशु और पक्षी वैश्विक स्तर पर मारे जाते हैं जो पर्यावरण संतुलन के मामले में एक अत्यंत चिंताजनक पहलू है।

यह गहरी चिंता का विषय है कि फिलहाल 1500 मिलियन टन का प्लास्टिक पूरे ग्रह पर एकत्र हो गया है जो लगातार पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता है। आज प्रति व्यक्ति के प्लास्टिक का उपयोग 18 किलोग्राम है जबकि इसकी रीसाइक्लिंग केवल 15.2 प्रतिशत है। इसके अलावा प्लास्टिक रीसाइक्लिंग इतना सुरक्षित नहीं माना जाता है क्योंकि प्लास्टिक के रीसाइक्लिंग के माध्यम से अधिक प्रदूषण फैलता है।

आज हर जगह प्लास्टिक दिखता है जो पर्यावरण को दूषित कर रहा है। एक अनुमान के मुताबिक भारत में लगभग 10 से 15 हजार यूनिट पॉलीथीन का उत्पादन हो रहा है। 1990 के आंकड़ों के मुताबिक देश में इसकी खपत बीस हजार टन थी जो अब तीन से चार लाख टन तक पहुंच गई है – यह भविष्य के लिए एक अशुभ संकेत है।
चूंकि पॉलीइथिलीन परिसंचरण में आया तो सभी पुराने पदार्थ अप्रचलित हो गए क्योंकि कपड़ा, जूट और पेपर को पॉलिथीन द्वारा बदल दिया गया था। पॉलीथीन निर्मित वस्तुओं का उपयोग करने के बाद फिर से इनका उपयोग नहीं किया जा सकता इसलिए उन्हें फेंक दिया जाना चाहिए। ये पाली-निर्मित वस्तुएं घुलनशील नहीं हैं यानी वे जीव-निष्पादित पदार्थ नहीं हैं।

जहां कहीं प्लास्टिक पाए जाते हैं वहां पृथ्वी की उपजाऊ शक्ति कम हो जाती है और ज़मीन के नीचे दबे दाने वाले बीज अंकुरित नहीं होते हैं तो भूमि बंजर हो जाती है। प्लास्टिक नालियों को रोकता है और पॉलीथीन का ढेर वातावरण को प्रदूषित करता है। चूंकि हम बचे खाद्य पदार्थों को पॉलीथीन में लपेट कर फेंकते हैं तो पशु उन्हें ऐसे ही खा लेते हैं जिससे जानवरों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है यहां तक ​​कि उनकी मौत का कारण भी।
 
प्लास्टिक प्रदूषण क्या है?
जमीन या पानी में प्लास्टिक उत्पादों के ढेर को प्लास्टिक प्रदूषण कहा जाता है जिससे मनुष्य, पक्षी और जानवरों के जीवन पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। प्लास्टिक प्रदूषण का वन्यजीव, वन्यजीव आवास और मनुष्य पर खतरनाक प्रभाव पड़ता है।

 प्लास्टिक प्रदूषण भूमि, वायु, जलमार्ग और महासागरों को प्रभावित करता है।
प्लास्टिक मुख्य रूप से पेट्रोलियम पदार्थों से उत्सर्जित सिंथेटिक रेजिन से बना है। रेजिन में प्लास्टिक मोनोमर्स अमोनिया और बेंजीन का संयोजन करके बनाया जाता है। प्लास्टिक में क्लोरीन, फ्लोरीन, कार्बन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, ऑक्सीजन और सल्फर के अणु शामिल हैं।

आज दुनिया में हर देश प्लास्टिक प्रदूषण की विनाशकारी समस्याओं से जूझ रहा है। हमारे देश का विशेषकर शहरी वातावरण प्लास्टिक प्रदूषण से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। शहरों में गाय और अन्य जानवरों के साथ बड़ी संख्या में पक्षी प्लास्टिक की थैलियों का उपभोग करने की वजह से मारे जा रहे हैं।

 चूंकि यह स्वाभाविक रूप से अवक्रमित नहीं है इसलिए यह प्रकृति में बना रह सकता है जो किसी भी सक्षम माइक्रो बैक्टीरिया के अभाव के कारण प्रकृति में स्थायी रूप से बने हुए हैं। यह गंभीर पारिस्थितिकी असंतुलन की ओर जाता है।
 पानी में अघुलनशील होने के कारण इसे नष्ट नहीं किया जाता है। यह भारी जल प्रदूषण को बढ़ावा देता है और धरती पर जल प्रवाह को रोकता है जिसके कारण ऐसा प्रदूषित जल मक्खियों, मच्छर और जहरीले कीटों का उत्पादन करता है जो मलेरिया और डेंगू जैसे रोगों को फैलाते हैं।
 
प्लास्टिक प्रदूषण समस्या क्यों है?
अनुसंधान ने दिखाया है कि प्लास्टिक की बोतलों और कंटेनरों का उपयोग बेहद खतरनाक है। एक प्लास्टिक के पोत में गर्म भोजन या पानी होने से कैंसर हो सकता है। जब अत्यधिक सूरज की रोशनी या तापमान के कारण प्लास्टिक गर्म हो जाता है तो उसमें हानिकारक रासायनिक डाईऑक्सीजन का रिसाव शरीर को भारी नुकसान पहुंचाता है।

40 माइक्रोन से कम तापमान पर प्लास्टिक बैग बायोडिग्रेडेबल नहीं हैं। वे हमेशा के लिए पर्यावरण में बने रहेंगे। लंबे समय तक अपर्याप्त नहीं होने के अलावा प्लास्टिक के कई दुष्प्रभाव भी होते हैं जो कि मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। उदाहरण के लिए पाइपों, खिड़कियों और दरवाजों के निर्माण में इस्तेमाल पीवीसी विनाइल क्लोराइड के पोलीमराइजेशन द्वारा बनाई गई है।

इसकी संरचना में इस्तेमाल रसायन मस्तिष्क और यकृत का कैंसर पैदा कर सकता है। मशीनों की पैकिंग बनाने के लिए बेहद कठोर पोलीकार्बोनेट प्लास्टिक फोस्जिन बिस्फेनोल यौगिकों के संतृप्त से प्राप्त किया जाता है। ये घटक अत्यधिक जहरीली और नम गैस उत्पन्न करती हैं। कई प्रकार के प्लास्टिक के निर्माण में फार्मलाडेहाइड का उपयोग किया जाता है। यह रसायन त्वचा पर चकत्ते पैदा कर सकता है। कई दिनों तक इसके संपर्क में रहने से अस्थमा और श्वसन रोग हो सकते हैं।

कई कार्बनिक यौगिकों को प्लास्टिक में लचीलेपन पैदा करने के लिए जोड़ा जाता है। कई प्रकार के पॉलीथीन गैसीकरण कैसिनोजेनिक यौगिक हैं। प्लास्टिक में पाए जाने वाले ये जहरीले पदार्थ प्लास्टिक के गठन के दौरान उपयोग किए जाते हैं। तैयार (ठोस) प्लास्टिक के बर्तन में अगर भोजन सामग्री को लंबे समय तक रखा जाता है या शरीर की त्वचा लंबे समय तक प्लास्टिक के संपर्क में होती है तो प्लास्टिक में छुपे रसायन कहर बरपा सकते हैं। इसी तरह प्लास्टिक का कचरा जिसे कूड़ेदान में फेंक दिया जाता है वह पर्यावरण के लिए कई जहरीले प्रभाव छोड़ सकता है।

वायु प्रदूषण में प्लास्टिक कैसे योगदान करता है?
प्लास्टिक अपशिष्ट कई जहरीली गैसों का उत्पादन करता है। नतीजतन गंभीर वायु प्रदूषण का उत्पादन होता है जो कैंसर को बढ़ावा देता है, शारीरिक विकास को रोकता है और भयंकर बीमारी का कारण बनता है। प्लास्टिक के उत्पादन के दौरान एथिलीन ऑक्साइड, बेंजीन और जाईलीन जैसी खतरनाक गैसें उत्पन्न होती हैं।

डाईऑक्सीन भी इसे जलाने पर उभरता है जो बहुत ही जहरीला है और कैंसर पैदा करने वाला तत्व है।
गड्ढों में प्लास्टिक के कारण पर्यावरण खराब हो जाता है, मिट्टी और भूजल विषाक्त हो जाते हैं और धीरे-धीरे पारिस्थितिक संतुलन बिगड़ना शुरू हो जाता है।

प्लास्टिक उद्योग में काम करने वाले श्रमिकों के स्वास्थ्य की भी एक सीमा होती है जो विशेष रूप से उनके फेफड़े, किडनी और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करती है।
 
जब आप प्लास्टिक को जलाते हैं तो क्या होता है?
प्लास्टिक अपशिष्ट जलाने से आमतौर पर कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड गैसों का उत्सर्जन होता है जो श्वसन नालिका या त्वचा की बीमारियों का कारण बन सकता है।

 इसके अलावा पॉलीस्टाइन प्लास्टिक के जलने से क्लोरो-फ्लोरो कार्बन का उत्पादन होता है जो वायुमंडल के ओजोन परत के लिए हानिकारक होता है। इसी तरह पोलिविनाइल क्लोराइड के जलने से क्लोरीन और नायलॉन का उत्पादन होता है और पॉलीयोरेथन नाइट्रिक ऑक्साइड जैसे विषाक्त गैसें निकलती हैं।

प्लास्टिक को फेंकने और जलाने दोनों से ही पर्यावरण को समान रूप से हानि पहुँचती है। प्लास्टिक जलने पर एक बड़ी मात्रा में रासायनिक उत्सर्जन होता है जो श्वसन प्रणाली पर इनफ़लिंग का कारण बनता है। चाहे प्लास्टिक को जमीन में डाल दें या पानी में फेंक दें इसके हानिकारक प्रभाव कम नहीं होते हैं।
 
प्लास्टिक प्रदूषण के कारण क्या हैं?
यद्यपि प्लास्टिक निर्मित सामान गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों की जिंदगी की गुणवत्ता में सुधार करने में सहायक होते हैं पर साथ ही वे इसके लगातार उपयोग से उत्पन्न खतरे से अनजान हैं।

प्लास्टिक एक ऐसी वस्तु बन गई है जो पूजा, रसोईघर, बाथरूम, बैठक कमरे और पढ़ने के कमरे में इस्तेमाल होने लगा है। इतना ही नहीं अगर हमें बाजार से राशन, फलों, सब्जियां, कपड़े, जूते, दूध, दही, तेल, घी और फलों का रस आदि जैसे किसी भी वस्तु को लेकर आना पड़े तो पॉलीथीन का व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है।

आज की दुनिया में बहुत सारे फास्ट फूड है जिन्हें पॉलिथीन में पैक किया जाता है। आदमी इतना प्लास्टिक का आदी बन गया है कि वह जूट या कपड़े से बने बैग का उपयोग करना भूल गया है। दुकानदार भी हर प्रकार के पॉलिथीन बैग रखते हैं क्योंकि ग्राहक ने पॉली को रखना अनिवार्य बना दिया है।

 ऐसा चार से पांच दशक पहले नहीं था जब बैग कपड़े, जूट या कागज से बने बैग इस्तेमाल में लाये जाते थे जो पर्यावरण के लिए फायदेमंद थे।

प्लास्टिक कैरी बैग ने आधुनिक सभ्यता में एक बड़ी समस्या पैदा की है। उनके निपटान की कोई ठोस व्यवस्था नहीं होने के कारण वे पर्यावरण के लिए एक गंभीर खतरा पैदा करते हैं। एक छोटे से शहर में पांच से सात क्विंटल बैग बेचे जाते हैं।
 प्रदूषण की प्रक्रिया तब शुरू होती है जब उपयोग के बाद कचरे में ले जाने वाले सामान को कूड़े के रूप में फेंक दिया जाता है। बायोडिग्रेडेबल होने के कारण प्लास्टिक के बैग कभी भी सड़ते नहीं हैं और पर्यावरण के लिए खतरा बन जाते हैं।
 कैरी बैग कृषि क्षेत्रों में फसलों के प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया में बाधा डालते हैं।
प्लास्टिक की पैकिंग में लिपटे हुए खाद्य और ड्रग्स रासायनिक प्रक्रिया को शुरू कर इसे दूषित और ख़राब करते हैं। ऐसे भोजन की खपत मानव जीवन की समस्या को बढ़ाता है क्योंकि इससे भयानक रोग होते हैं।
 
प्लास्टिक प्रदूषण के प्रभाव
प्लास्टिक प्रदूषण पर्यावरण के लिए एक गंभीर खतरा है। वैज्ञानिक वर्षों से इसके प्रतिकूल प्रभावों के बारे में चेतावनी देते रहे हैं। यह समस्या इसलिए भी विशेष रूप से गंभीर है क्योंकि विभिन्न व्यापक-प्रचारित स्वच्छता अभियान के बावजूद प्लास्टिक कचरे से कुछ भी अछूता नहीं है।

 इसने गांवों, कस्बों, शहरों, महानगरों यहां तक ​​कि देश की राजधानी को भी नहीं छोड़ा बावजूद इस तथ्य के यह कि पॉलीथीन का उपयोग निषिद्ध है। इस संबंध में राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल ने बार-बार अपनी नाराजगी व्यक्त की है। उसने राज्य सरकारों को पूरे देश में प्लास्टिक के अंधाधुंध इस्तेमाल पर फटकार लगाई है।

जहां भी मानव ने अपने कदम रखें वहीँ पॉलिथीन प्रदूषण को फैलाया। यह हिमालय घाटियों को भी दूषित कर रहा है। यह इस स्तर तक बढ़ गया है कि सरकार भी इसके रोकथाम के लिए प्रचार कर रही है। पिकनिक या सैर-सपाटे के सभी स्थान भी इससे पीड़ित हैं।

अध्ययनों से पता चलता है कि प्लास्टिक अपशिष्ट के कारण जलीय प्राणी सुरक्षित नहीं हैं। सूक्ष्मदर्शी जैसे खतरनाक तत्व आमतौर पर कचरे के इस्तेमाल से उत्पन्न होते हैं जैसे कि प्लास्टिक बैग, बोतल ढक्कन, कंटेनर में जल प्रवाह, पराबैंगनी किरणों के उत्सर्जन, सौंदर्य प्रसाधन और टूथपेस्ट में इस्तेमाल होने वाली बड़ी मात्रा में रोगाणुओं का उत्सर्जन।

सूक्ष्म प्लास्टिक खतरनाक रसायनों को अवशोषित करता है और जब पक्षी और मछली इसे खाते हैं तो यह उनके शरीर में जाता है। आर्कटिक सागर का नवीनतम अध्ययन साबित करता है कि मछलियों या अन्य जलीय प्रजातियों की तुलना में अगले तीन दशकों में प्लास्टिक अधिक होगा।

सागर में विभिन्न जगहों से कई सालों तक प्लास्टिक के कई छोटे-छोटे टुकड़े आने से वे बहुत बड़ी मात्रा में एकत्रित हो गए हैं। इनकी मात्रा का अनुमान लगभग 100 से 1200 टन है। वे ग्रीनलैंड के समुद्र में प्रचुर मात्रा में हैं। यह आशंका है कि आर्कटिक महासागर में तेजी से बढ़ते प्लास्टिक के कारण आसपास के देशों के समुद्र प्रदूषित हो सकते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि लाखों टन प्लास्टिक अपशिष्ट दुनिया के महासागरों में अपना रास्ता मिल गया है और यह दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है जो एक खतरनाक संकेत है।

प्लास्टिक प्रदूषण के समाधान
यह समाज का कर्तव्य है कि वे इस कहावत को सही साबित करें कि प्रकृति भगवान का अनोखा उपहार है। इसलिए लोगों को पॉलीथीन की वजह से प्रदूषण को रोकने के लिए आगे आना होगा और हर किसी को अपने स्तर पर इसका निपटान करने में शामिल होना होगा।

चाहे वह बच्चा हो या बुजुर्ग, शिक्षित हो या अशिक्षित, समृद्ध हो या गरीब, शहरी हो या ग्रामीण सभी को प्लास्टिक के खतरे से छुटकारा पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। परिवार के पुराने सदस्यों को पॉलीथीन का उपयोग नहीं करना चाहिए और अन्य सभी सदस्यों को इसका प्रयोग करने से भी रोकना चाहिए।

इसके अलावा यदि आप इसके बारे में लोगों को उचित जानकारी प्रदान करते हैं तो यह पॉलीथीन के इस्तेमाल को रोकने का सबसे बड़ा कदम होगा। जब आप बाजार में खरीदारी करते हैं तो अपने साथ कपड़े से बना एक जूट या बैग ले लीजिए और अगर दुकानदार पाली बैग देता है तो उसे पेश करने से प्रबल होता है। अगर उपभोक्ताओं ने इसे बंद कर दिया है तो इसकी आवश्यकता दिन-प्रति दिन कम हो जाएगी और एक समय आएगा जब पर्यावरण से पॉलीथीन का सफाया हो जाएगा। सरकारी मशीनरी को भी पॉलीथीन के निर्माण में लगे इकाइयों को बंद करना होगा।

प्लास्टिक अपशिष्ट के अन्य समाधानों में से एक इसका रीसाइक्लिंग है। रीसाइक्लिंग का अर्थ है प्लास्टिक की बर्बादी से प्लास्टिक वापस लेकर प्लास्टिक की नई चीजों को बनाना। प्लास्टिक रीसाइक्लिंग को पहली बार 1970 में कैलिफोर्निया फर्म द्वारा तैयार किया गया था। इस फर्म ने प्लास्टिक स्पिल्ल्स और प्लास्टिक की बोतलों से जल निकासी के लिए टाइल तैयार की थी लेकिन प्लास्टिक की रीसाइक्लिंग के काम अपनी सीमाएं है क्योंकि रीसाइक्लिंग की प्रक्रिया काफी महंगी है और अधिक प्रदूषण के भार से लदी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

वैज्ञानिकों ने खोजा तरीका- प्लास्टिक के कचरे से बनेगी वनीला आइसक्रीम
Environment

वैज्ञानिकों ने खोजा तरीका- प्लास्टिक के कचरे से बनेगी वनीला आइसक्रीम

वैज्ञानिकों ने खोजा तरीका- प्लास्टिक के कचरे से बनेगी वनीला आइसक्रीम

भविष्य में हो सकता है कि आपकी वनीला आइसक्रीम प्लास्टिक के कचरे से बने. वैज्ञानिकों

Ayurveda Environment

कैसा होना चाहिए कपड़े का फेस मास्क, मास्क में क्यों जरूरी हैं तीन लेयर?

नाक और मुंह से वायरल बूंदों के फैलाव को रोकने में मदद करने के लिए होममेड क्लॉथ मास्क में कम से कम दो परतें होनी